Anshu hindi shayari by imshiva

Anshu hindi shayari by imshiva

Anshu hindi shayari by imshiva   आज फिर रोक लिए आंसू टपकने से पहले, हर रोज़ की तरह सुना है एक बार आदत लग गयी इनकी , तोह रोज़ आने को बेताब रहते है ये. aaj phir rok liye aansu tapkne se pahle, har roz ki trah.suna hai ek bar aadat lag gyi inki , … Read more