Kosish hindi shayari by imshiva

Pyar ke sabut vo aaj bhi jinda hai,
Kosish ki tumko bahut bhulane ki humne |
Par saanse chalti rahi haan aaj bhi Zinda hai,
Kosish ki bahut khud ko mitane ki Humne,
 
In hindi
प्यार के सबत आवाज़ आज भी जिंदा है,
कोशिष की तुमको बहोत भुलाने की हम |
पर साँसे चलती रही हैं आज भी ज़िंदा है,
कोशिश की हमने खुद की मिटने की हमने |

Leave a Comment