नान्दीेये पे हो के सवार भोलाजी चले दुल्हा बनके भजन लिरिक्स

गायक – प्रकाश माली जी & नीताजी नायक।
प्रेषक – मनीष सीरवी।

नान्दीेये पे हो के सवार भोलाजी चले दुल्हा बनके भजन लिरिक्स

नान्दीेये पे हो के सवार,
भोलाजी चले दुल्हा बनके,
खाकर धतूरा और भांग,
भोलाजी चले दुल्हा बनके,
भोलाजी चले दुल्हा बनके,
भोलाजी चले दुल्हा बनके,
नंदी पे हो के सवार,
भोलाजी चले दुल्हा बनके।।



नन्दी का घूगरू छम छम बोले,

भोले का डमरु डम डम बोले,
नन्दी का घूगरू छम छम बोले,
भोले का डमरू डम डम बोले,
काँधे पे नाचे कालो नाग,
भोलाजी चले दुल्हा बनके,
नंदी पे हो के सवार,
भोलाजी चले दुल्हा बनके।।



भांत भांत का देख बाराती,

सारे नगर में भगदड़ मची,
भांत भांत का देख बाराती,
सारे नगर में भगदड़ मची,
मच गयो हाहाकार,
भोलाजी चले दुल्हा बनके,
नंदी पे हो के सवार,
भोलाजी चले दुल्हा बनके।।




नारदजी उठ बोले माता,

है ये सारे जग के विधाता,
नारदजी उठ बोले माता,
है ये सारे जग के विधाता,
गवरा को खुल गयो भाग,
भोलाजी चले दुल्हा बनके,
नंदी पे हो के सवार,
भोलाजी चले दुल्हा बनके।।



भोलाजी पहुंचे मंडप माई,

लगन की देखो हुई तैयारी,
भोलाजी पहुंचे मंडप माई,
लगन की देखो हुई तैयारी,
फेरे खाये गवरा के साथ,
भोलाजी चले दुल्हा बनके,
नंदी पे हो के सवार,
भोलाजी चले दुल्हा बनके।।



नान्दीेये पे हो के सवार,

भोलाजी चले दुल्हा बनके ,
खाकर धतूरा और भांग,
भोलाजी चले दुल्हा बनके,
भोलाजी चले दुल्हा बनके,
भोलाजी चले दुल्हा बनके,
नंदी पे हो के सवार,
भोलाजी चले दुल्हा बनके।।

Leave a Comment